खेलने कूदने के उम्र में मेरठ के शार्दूल ने एशियाड गेम्स में भारत को दिलाया पदक

 

खेलने कूदने के उम्र में मेरठ के शार्दूल ने एशियाड गेम्स में भारत को दिलाया पदक

 

खेलने कूदने के उम्र में मेरठ के शार्दूल ने एशियाड गेम्स में भारत को दिलाया पदक

 

   

  •  

     

     

 

     
  •  
  •  

 

     
    खेलने कूदने के उम्र में मेरठ के शार्दूल ने एशियाड गेम्स में भारत को दिलाया पदक
     
     
     
     
     
     
    fifteen years old meerut boy shardul vihan won silver medal in asiad games मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ की माटी से एक से बढकर एक नगीने निकल कर आ रहे है। मेरठ के कक्षा 10 के एक छात्र ने एशियाड गेम्स में रजत पदक हासिल कर परिवार और देश का नाम रोशन किया है। शूटिंग की डबल ट्रैप में शार्दूल विहान ने ऐसा निशाना लगाया कि देश की झोली में एक और रजत पदक आ गिरा। शार्दूल के घर मे आज जश्न का माहौल है सब अपनी अपनी खुशी का इजहार कर रहे है। मेरठ के सिवाया गांव में रहने वाले दीपक विहान का बेटा केवल 15 साल का है। 10 वीं कक्षा का यह छात्र जकार्ता में हो रहे एशियाड गेम्स के डबल ट्रैप में शार्दूल विहान ने सिल्वर मेडल हासिल किया है। किसान परिवार के इस बालक ने इसकी तैयारी कई साल पहले शुरू कर दी थी। जिसका नतीजा ये है कि शार्दूल आज देश के लिए एक पदक ले आया। वहीं अगर बात शार्दूल की मां की करें तो उनका कहना है कि शार्दूल जब गया था तो माँ के चरण छूकर गया था। उसने कहा था कि वो देश के लिए पदक लेकर आएगा। जैसा उसने कहा वैसा उसने करके दिखाया है।